Baarish Lyrics – बारिश – Payal Dev and Stebin Ben

Baarish Lyrics

Baarish Lyrics in hindi sung by Payal Dev and Stebin Ben. Baarish song Lyrics written by Kunaal Vermaa.

Baarish Lyrics hindi (बारिश)

याद आ जाति है मुजे वो तेरी हंसी
मुसकुरा जाति हें खूद ये पलकें मेरि
याद आ जाति है मुजे वो तेरी हंसी
मुसकुरा जाति हें खूद ये पलकें मेरि

कबि आइसा भी होत है
भुला देइ में तुझको
मगर बोंडिन मेरि हर
कोशिष बरबाद करति हहिं

तुम्हे बारिश बड़ याद करति है
तुम्हे बारिश बड़ याद करति है
आज भई मुजसे तेरी बात की है
तुम्हे बारिश बड़ याद करति है

तुम्हे बारिश बड़ याद करति है
आज भई मुजसे तेरी बात की है
तुम्हे बारिश बड़ याद करति है

वोह पेहली नज़र वोह चेहरा तुहारा
जब आंखां से तुमको दिल में यूरा
वोह पेहली नज़र वोह चेहरा तुहारा
जब आंखां से तुमको दिल में यूरा

में भुला न होइ पनाह कोउ तेरी
वोह जिस्मिन था मांय ज़माना ग़ज़ारा

बिचड़ने से पेहले तेरा
वो मुझसे लिपट जना
वो बीबास निगाहें मेरी
अब तक फरियाद करत है

तुम्हे बारिश बड़ याद करति है
तुम्हे बारिश बड़ याद करति है
आज भई मुजसे तेरी बात की है
तुम्हे बारिश बड़ याद करति है

Baarish Lyrics english

Yaad aa jaati hai mujhe woh teri hansi
Muskura jaati hain khud yeh palkein meri
Yaad aa jaati hai mujhe woh teri hansi
Muskura jaati hain khud yeh palkein meri

Kabi aisa bhi hota hai
Bhula deti main tujhko
Magar boondein meri har
Koshish barbaad karti hahin

Tumein baarish bada yaad karti hai
Tumein baarish bada yaad karti hai
Aaj bhi mujhse teri baat karti hai
Tumein baarish bada yaad karti hai

Tumein baarish bada yaad karti hai
Aaj bhi mujhse teri baat karti hai
Tumein baarish bada yaad karti hai

Woh pehli nazar woh chehra tumhara
Jab aankhon se tumko tha dil mein utara
Woh pehli nazar woh chehra tumhara
Jab aankhon se tumko tha dil mein utara

Main bhoola nahi hoon panaahon ko teri
Woh jismein tha maine zamana ghuzara

Bichhadne se pehle tera
Woh mujhse lipat jaana
Woh bebas nigahein meri
Ab tak fariyaad karti hain

Tumein baarish bada yaad karti hai
Tumein baarish bada yaad karti hai
Aaj bhi mujhse teri baat karti hai
Tumein baarish bada yaad karti hai

 

Also Read: Dori Tutt Gaiyaan Lyrics –डोरी टूट गैयाँ – Rekha Bhardwaj gunjan saxena